Good Parenting Guidance

Good Parenting Guidance, बच्चो की परवरिश कैसे करे

Good Parenting Guidance: यंहा दिए गए Smart Parenting Tips In Hindi को पढ़कर आप अपने बच्चों को Guide (Best Parenting Guidance) कर सकते है, बच्चो की परवरिश कैसे करे?

किताबी ज्ञान देकर आप भले ही अपने बच्चे को Professional बना ले, मगर व्यावहारिक ज्ञान के बिना उनकी जानकारी अधूरी है। चलिए जानते हैं Parenting Tips For Parents.

शायद आपको पता नहीं की ये 21वीं शताब्दी के बच्चे है जंहा सब कुछ फ़ास्ट है। ऐसे में बच्चों की क्षमताओं को इस प्रकार बनाने की जरुरत है, ताकि उनका हर क्षेत्र में संतुलन रहे और वो कंही लड़खड़ाए नहीं।

इसलिए Parents और Teachers को उन्हें इस तरीके से तैयार करना चाहिए कि आगे चलकर वे हर Level पर बेहतर साबित हों। खुद से आपको शवाल पूछना होगा की आप अपने बच्चों को किस रूप  म अच्छा देखना चाहती / चाहते है।

क्या जब वे डॉक्टर होंगे, तभी वह सबसे अच्छे होंगे या इंजीनियर होंगे तब? बच्चों का सामान्य होना अच्छा है या विजेता? इस तरह की कई चीजें है, जिनके बारे में आपको सोचना होगा की आप अपने बच्चे को किस रूप में देखना चाहती है। 

अगर आप अपने बच्चों को सबसे बेहतर बनाना चाहती / चाहते है, तो हर चीज में उन्हें माहिर बनाने से पहले आपको उन्हें एक लीडर बनाना होगा और यही अच्छी Parenting Guidance है।

Smart Parenting Tips For Parents.

Parenting Guidance - Smart Child.

बच्चो की परवरिश कैसे करे: बच्चों को सुधारें इन नायाब तरीकों से। यंहा Parenting से जुड़े सभी समस्याओं का समाधान है। यंहा दिए गए Smart Parenting Tips In Hindi को अपना कर आप एक अच्छे Parent बन सकते है। तो इस Parenting Articles को पूरा जरूर पढ़े।

Tip #1: दूसरों की मदद के लिए प्रोत्साहन करना (Parenting Guidance)

Smart Parenting Guidance: बच्चों को हमेशा दूसरे की मदद के लिए प्रोत्साहित करें। चाहे वह बूढ़े हो, कमज़ोर हो, बच्चें हो, गरीब हो या भूखे हो। ये सब समाज के वे लोग है, जिन्हे लोगों की मदद की आवश्यकता होती है। 

इनकी मदद करने से बच्चों में लोगों के प्रति मदद की भावना उत्पन्न होती है, बच्चो की परवरिश कैसे करे.

Tip #2: सीखने की प्रवृत्ति (Positive Parenting Tips)

Advance Parenting Guidance: बच्चों को हमेशा नयी-नयी चीजें सिखने आदि के लिए प्रेरित करे।इसके लिए उन्हें मौका दे ताकि वे खुद से समस्यांओ को सुलझा सके और छोटी-छोटी चीजों के लिए परेशान न हो – Best Parenting Guidance In Hindi.

इससे बच्चों को भविस्य में बड़ी से बड़ी समस्याएं सुलझाने में परेशानी नहीं होगी। इसके लिए बच्चों को बनाये गए प्रश्नों के उत्तर ना दे, बल्कि उन्हें खुद से प्रश्नो के उत्तर की  तलाश करने का औसर दे और उसके बाद उन्हें बताये – बच्चो की परवरिश कैसे करे?

Tip #3: जवाबदेही होना (Smart Parenting)

Best Parenting Guidance: बच्चों को इस बात के लिए उनका समर्थन करे की उन्होंने, जो लिखा है, जो कार्य किया है, उसके प्रति वे जवाब देने में हिचकिचाए ना अर्थात वे बेझिजक उस प्रश्न का जवाब दे सके। ये एक Good Parenting Guidance करने का सबसे अच्छा तरीका है।

और ऐसा करने के लिए उन्हें प्रेरित करे कि वह खुश रहें और Parents और Teachers से प्रसंशा प्राप्त करे – Smart Parenting Tips In Hindi

Tip #4: मार्गदर्शक की भूमिका (Parenting Tips For Parents)

Best Parenting Guidance: बच्चों को मौका दे कि वह दूसरों की मदद कर सके और दूसरों का मार्गदर्शन भी कर सके इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की वह एक छोटा – सा प्रयास है या बड़ा – Good Parenting Tips In Hindi.

इससे बच्चों में एक Leader की तरह मार्गदर्शन करना सीखेंगे। हम अक्सर यह सोचकर बच्चों को घर से बहार नहीं निकलने देते कि उसकी पढाई का नुक्सान होगा।

लेकिन आप अपनी इस धारणा को ख़त्म कर दे और उन्हें दुनिया से जुड़ने का कम से कम एक मौका दे। अपने आसपास के लोगों से वह संपर्क स्थापित करे, इसके लिए उन्हें उत्साहित करें। बच्चों  दूसरों की संस्कृति, धर्म के प्रति आदर भाव विकसित करें। 

Read Also – 10 Effective Ways To Lose Face Fat In Aforetime | Hindi

क्या आपका बच्चा स्कूल में सुरक्षित है – Child Caring at School.

Parenting Guidance - A Cute Child Thinking Somthing.

Parenting Guidance (School): स्कूल वह जगह है, जंहा आप अपने बच्चे को पढ़ने – लिखने और एक बेहतर इंसान बनाने के लिए भेजतीं हैं। स्कूल में उसका अच्छे से ध्यान रखा जाये और अच्छी शिक्षा मिले, इसके लिए आप अच्छे से अच्छे स्कूल का चुनाव करतीं हैं और उसकी भरी फ़ीस भी भरतीं है।

बच्चे को स्कूल भेजकर आप निश्चिंत रहतीं है कि आपका बच्चा स्कूल में पढ़ रहा है। लेकिन इन सबके बावजूद भी कई बार स्कूल में आपका बच्चा अन्य बच्चों या स्कूल के शिक्षकों के साथ काफ़ी असहज महसूस करता है।

ऐसी स्थिति को हम अक्सर बच्चे की उम्र में आने वाले बदलाव का नाम दे देते है। लेकिन हो सकता है कि स्कूल में होने वाली कुछ घटनाओं से आपका बच्चा काफ़ी परेशान हों – Smart Parenting Tips In Hindi.

कहानी द्वारा बताया जरुरी बात – पेरेंटिंग गाइडेंस

कुछ समय पहले की बात है। गुरुग्राम में एक नामी स्कूल के वाशरूम में सात साल के एक बच्चे की हत्या हो गयी थी। रिपोर्ट में पाया गया कि हत्या से पहले उसके शारीरिक शोषण की कोशिश की गयी थी। यह सिर्फ एक स्कूल का मामला नहीं है।

बच्चों के साथ स्कूल में होने वाले शोषण की खबरे आजकल आम है। ऐसी स्थिति में बच्चे अक्सर डर की वजह से अपनी परेशानियों के बारे में माता – पिता (Parents) को नहीं बतातें है। आपको उनसे स्कूल में होने वाले गतिविधयों के बारे में बात करने और उनके मनोदशा को समझने की जरुरत है – पेरेंटिंग गाइडेंस

बच्चे के व्यवहार पर रखे नजर – Focus at Your Child’s Behaviour.

Parenting Guidance (Behaviour): जब बच्चा अकेला रहने लगे और अपने दोस्तों के साथ खेलना कूदना बंद कर दे, तो हो सकता है कि बच्चे के साथ कुछ बुरा हुआ हो। ऐसे में उससे खुल कर इस बारे में बात करें। बच्चों के व्यवहार में बदलाव आना भी उनके साथ होने वाले किसी तरह के शोषण के संकेत हो सकते हैं।

वंही जब बच्चे की भूख मर जाये या वह पहले से ज्यादा खाने लग जाये, तो यह भी एक चिंता का संकेत है। इसके अलावा बच्चे का हमेशा डरा – डरा सा रहना या खुद पर से उसका आत्मविश्वास ख़त्म हो जाना भी चिंता का विषय है।

बच्चे का मन जब पढाई में और याद की हुई चीजें भूलने लगे। अगर आपके बच्चे में भी ये संकेत दिखाई दे, तो हो सकता है कि वह किसी परेशानी से गुजर रहा हो – Tips In Hindi.

खुलकर बात करें – Talk Openly.

Parenting Guidance (Talk Your Child): बच्चों से सभी विषयों पर खुलकर बात करें। स्कूल में होने वाले गतिविधियों के बारें में उनसे पूछें। बच्चे के दोस्त और शिक्षकों के बारे में भी बच्चे से पूछे। बच्चों को उसके शरीर के सभी अंगो के बारे में खुलकर बताएं।

बच्चों को “Good Touch” और “Bad Touch” के बारे में जानकारी दें। उन्हें बताएं कि शरीर के कुछ Private Parts हैं उन्हें कोई भी नहीं छू सकता है। टीवी देखतें समय किसी प्रकार के अतरंग दृश्य या फिर यौन शोषण के दृश्य आने पर हम अक्सर टीवी बंद कर देतें हैं या बच्चों को कंही भेज देते हैं।

ऐसा करने के बजाय उन्हें वह दिखाएँ और उनके पूछे गए शैवालों का सही जवाब दें। इससे उन्हें “Good Touch” और “Bad Touch” का सही ज्ञान होता है – Smart Parenting Tips In Hindi.

स्कूल नियमित तौर पर जाएं – Visit School Regularly.

Parenting Guidance (Visit School): आपकी जिम्मेदारी बच्चों को स्कूल भेजने के बाद ख़त्म नहीं हो जाती, बल्कि उसके बाद और अधिक बढ़ जाती है। आपको अपने बच्चे के स्कूल हर हप्ते या महीने में दो बार जरूर जाने चाहिए।

स्कूल में जाकर सिर्फ शिक्षकों से ही न मिले बल्कि अपने बच्चे के दोस्तों और उसके साथ पढ़ने वाले अन्य बच्चों से मिले और उनके व्यव्हार को भी समझे। साथ ही स्कूल के माहौल और वंहा की गतिविधियों पर भी गौर करे।

देखे कि कंही आपका बच्चा किसी से डरा – डरा सा तो नहीं रहता। अगर ऐसा है तो अपने बच्चे से खुलकर बात करे।

बच्चों में जागरूकता – Awareness.

Parenting Guidance (Awarness): हम अक्सर अपने बच्चे को यह शिक्षा देते हैं कि बड़ों का आदर और सम्मान करे। स्कूल में अपने सीनियर्स से सीखें और शिक्षकों की हर बात माने। इस वजह से बुरी परिस्थिति में दुसरो को न कहने में कतराते हैं,

विशेष रूप से अपने से बड़ों और शिक्षकों को न कहने में वह अच्छा महसूस नहीं करते। इसलिए उनको इन चीजों के बारे में जागरूक करने का काम आपका है। उन्हें बताये की हाँ या न कहने के लिए स्थिति मायने रखती है।

बच्चो को बताएं कि असहज परिस्थितिओं में बड़ों या बूढ़ों को न कहना सही है। साथ ही ऐसी परिस्थितिओं (Smart Parenting Tips In Hindi) के लिए आप उन्हें कोई शब्द भी दे सकती हैं, जिससे वे उस परिस्थिति के आने पर आपको संकेत दे सके।

जल्द उठाएं ठोस कदम – Be Strict.

Parenting Guidance (Be Strict): अगर आपको संदेह है कि आपके बच्चे के साथ इस प्रकार की कोई घटना हुई है, तो जिस पर भी आपको संदेह है उससे अपने बच्चे को तुरंत अलग कर दे। और अपने बच्चे को फिर उसके संपर्क में कभी न आने दे।

आपको जिस पर भी संदेह है, उससे कोई बात किए बिना सीधे पुलिस को इसकी सुचना दें और आगे की कार्रवाई में सहयोग दें। आप चाइल्ड वेलफेयर समिति (Child Welfare Committee) को भी इस बात की जानकारी दे सकतीं हैं।

बच्चे से इसके बारे में बातों – बातों में पूछें। अगर बच्चा डर जायेगा तो सहयोग नहीं करेगा। हो सकता है कि फिर वो आपको इससे सम्बंधित कुछ न बताए। इसलिए जरुरी है की ऐसी स्थिति में धैर्य से काम लें – Smart Parenting Tips In Hindi.

CBSE Guidelines For Parents (Smart Parenting Tips In Hindi.)

  • स्कूल के अंदर आने – जाने वाले लोगों पर रखी जाए नजर।
  • स्कूल परिसर में किसी भी तरह की गुप्त या छुपी हुई जगह न हो।
  • स्कूल में काम करने वाले हर एक व्यक्ति (शिक्षक, प्रिंसिपल, चपरासी, अकॉउंटेंट या अन्य) के बारे में पता करने के बाद ही उन्हें काम पर रखा जाये।
  • स्कूल परिसर में एक डॉक्टर या नर्स की तैनाती अनिवार्य रूप से हो।
  • स्कूल परिसर से 2 किमी की दुरी पर जो भी अस्पताल हो, उसके साथ टाई – उप करना जरुरी है।
  • स्कूल प्रशासन को Child Protection Policy को फॉलो करना जरुरी है। यानी कि बच्चे के साथ किसी भी तरह का टॉर्चर, मारपीट या शारीरिक शोषण नहीं किया जा सकता।

Best & Smart Parenting Tips For Parents In Hindi.

Tip #1: बच्चों से पीछा ना छुड़ाएं बल्कि उनके साथ रहे और उनके द्वारा पूछे गए सभी शैवालों का जवाब दें।

Tip #2: बच्चों को ज्यादा बोलने से मना न करे बल्कि जरुरत से ज़्यादा बोलने पर जरूर मना करे।

Tip #3: किसी भी Private या अच्छी बुरी बातों को बच्चों से न छुपाएं बल्कि जब वे शवाल करे तो उन्हें बताये।

Tip #4: पैरेंट टीचर्स मीटिंग में जरूर जाएँ और अपने बच्चों के मित्रों के पेरेंट्स (माता – पिता) से भी बातें करे।

Tip #5: बच्चों को Phone का उपयोग करने से मना न करें, लेकिन जब वे Phone का उपयोग करना ज्यादा कर दें तो उन्हें जरूर मना करें।

Conclusion at Good Parenting Guidance.

बच्चो को कैसे सुधारे: Hello Dear, Mother & Sister,  अगर आपको हमारा ये Good Parenting Articles सहायतमंद लगा हो तो अपने दोस्त को भी ये Parenting Article पढ़ने का सुझाव जरूर दे क्योंकि यंहा हमने “Best Parenting Tips For Parents” इस Topic को हिंदी में बताया है। 

और अगर आपका Parenting Guidance से सम्बंधित कोई Question है तो हमसे Comment में जरूर पूछे। हम आपके Question का answer Article लिखकर जल्द से जल्द देने की पूरी कोशिश करेंगे। Ok, bye see you later.

अगर आप Parenting (Smart Parenting Tips In Hindi) में Interested हैं या और अधिक Parenting Articles पढ़ना चाहते है तो लिंक पर क्लिक करे, बच्चो की परवरिश कैसे करे?

This Article also specifies the latest, “Modern Parenting VS Traditional Parenting” और “Best Parenting Guidance In Hindi

___Thanks For Visiting.

4 thoughts on “Good Parenting Guidance, बच्चो की परवरिश कैसे करे”

  1. Heya excellent blog! Does running a blog like this take
    a lot of work? I have absolutely no expertise in programming but I was hoping
    to start my own blog in the near future. Anyway,
    should you have any suggestions or tips for new blog owners
    please share. I know this is off topic but I just had to ask.
    Appreciate it! Maglia Manchester City 2020 Nellxpuw Nyeste Tottenham Hotspurs Fodboldtrøjer JefferyCo

    प्रतिक्रिया

Leave a Comment

Enable Notifications.    Ok No thanks